लघुकथा


https://www.hindi-abhabharat.com.xn----ztd4gfj7aay8etcbep4p.com/2020/06/blog-post9.html

4. डरे हुए लोग / लघुकथा



कल-आज-कल / लघुकथा



ये अदाएँ हैं / लघुकथा



काला टीका,माँ और संयोग / लघुकथा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

विशिष्ट पोस्ट

अपना-अपना आसमान

पसीने से लथपथ  बूढ़ा लकड़हारा  पेड़ काट रहा है शजर की शाख़ पर  तार-तार होता  अपना नशेमन  अपलक छलछलाई आँखों से  निहार रही है एक गौरैया अंतिम तिन...