शनिवार, 12 दिसंबर 2020

विरह वेदना

 नाविक नैया खेते-खेते 

तुम चले गए उस पार 

बाट तुम्हारी हेरे-हेरे 

थके नयन गए हार

बादल ठहरे होंगे कहीं 

कहे क्षितिज की रेखा 

संध्या का सफ़र शुरू होगा 

हो न सकेगा अनदेखा

नदी शांत है आ जाओ 

होगा मटमैला पानी

सांध्य-दीप साथ जलाना 

होगी परिपूर्ण कहानी। 

© रवीन्द्र सिंह यादव 

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 13 दिसंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. सांध्य दीप जलाने को आतुर हृदय...वाह बहुत खूब ल‍िखा रवींद्र जी ..वाह

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

भीड़ को तो बस इशारा चाहिए!

धुंध में धूमिल हैं दिशाएँ सीखे-पढ़े को क्या सिखाएँ विकराल विध्वंस की सामर्थ्य  समाई उँगलियों में सघन कुहाँसे से  फिर-फिर लड़ा जाएगा  रवि रोपता...