रविवार, 5 अप्रैल 2020

भेड़चाल

मोमबत्ती

उजाले के लिये

सँभालकर रखो,

माचिस की तीली

चूल्हा जलाने के लिये

बचाकर रखो,

जिनके पास

बर्बाद करने के लिये

पर्याप्त भौतिकता है,

वे शौक से

पूर्ण मनोयोग से  

भेड़चाल का हिस्सा बनें!

© रवीन्द्र सिंह यादव

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

समझ अब देर तक राह भूली है

देख रहा है सारा आलम खेतों में सरसों फूली है ओस से भीगी शाख़ पर  नन्ही चिड़िया झूली है  परेड की चिंता न समिति की फ़िक्र हँसिया के बियाह में खुरप...