रविवार, 26 अप्रैल 2020

फ़सल और बारिश

यह घनघोर घटा

काली-काली

मुझे नहीं लगी

कतई निराली

करोना-काल में

आफ़त की क्या कमी थी 

जो फ़सल बर्बाद करने 

असमय बारिश भी आ गई

आसमान में लपलपाती 

मेघप्रिया सौदामिनी

खलिहान जलाती  

गूँजती भरपूर  

डरावनी गड़गड़ाहट

किसान के दुश्मन

सरकारी फ़रमान  

हुआ करते  

अरे बादल तुम तो 

थोड़ा संयम धरते। 


© रवीन्द्र सिंह यादव 

1 टिप्पणी:

  1. महामारी की त्रासदी पर मौसम का बिगड़ा मिज़ाज असहनीय है। काश!किसानों की फरियाद बादल सुन पाता। सुंदर शब्दावली के प्रयोग से रची गयी सार्थक अभिव्यक्ति।
    -----

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

पृथ्वी और इंसान

पृथ्वी के नष्ट होने कीं  भविष्यवाणियाँ  अब तक  निरर्थक साबित हुईं हैं  2012 का फोबिया याद होगा उसके बाद भी  टीआरपी के लिए  क्...