शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018

अमरबेल (वर्ण पिरामिड )



मैं 
रहूँ 
सदैव 
हरी-भरी 
पैरासूट-सी 
आच्छादित होती 
मेज़बान    पेड़     पे।  



मैं 
तो हूँ 
घोषित 
परजीवी 
आतिथेय से  
हासिल पोषण 
झेलूँ  दोषारोपण।



जो 
होता 
मुझमें 
क्लोरोफिल 
स्वाभिमान से
सजती-खिलती   
जीती   अमरबेल। 

© रवीन्द्र सिंह यादव
























6 टिप्‍पणियां:

  1. है
    रक्त
    पिपासु
    खेले-खेल
    अमरबेल
    प्राण हर कर
    अबोध-सा मुस्काये
    रवींद्र जी,अलहदा विषय पर बेहतरीन लेखन।
    और तस्वीरें ख़ासकर बेहद अच्छी हैं..👌👌

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब ....
    शब्द चित्र है ये रचना ... पर जीवी होना ... क्लोरोफिल होना ... गज़ब की प्रयोगात्मक रचना ...
    विज्ञान और साहित्य का संगम ...

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल गुरुवार (07-11-2019) को      "राह बहुत विकराल"   (चर्चा अंक- 3512)    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत खूब... बेहतरीन तस्वीरों से सजी सुंदर रचना ,सादर नमन सर

    जवाब देंहटाएं
  5. मैं
    तो हूँ
    घोषित
    परजीवी
    आतिथेय से
    हासिल पोषण
    झेलूँ दोषारोपण... बेहतरीन सृजन आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

बदलीं हैं ज़माने की हवाएँ

हसरत-ए-दीदार में  सूख गया  बेकल आँखों का पानी, कहने लगे हैं लोग  यह तो है  गुज़रे ज़माने की कहानी। मिला करते थे हम  मेलो...