मंगलवार, 27 नवंबर 2018

धूप (वर्ण पिरामिड )




ये 
धूप 
जागीर  
है सूर्य की  
तरसाती है 
महानगर में 
बेबस इंसान को। 







लो 
आयी 
रवीना 
चीरकर 
घना कुहाँसा 
एहसास लायी 
मख़मली धूप-सा। 



आ 
गयी 
सर्दी भी 
मख़मली 
धूप लेकर 
कुहाँसा छा रहा 
दृश्य अदृश्य होने। 



वो 
देखो 
सेकती 
गुनगुनी 
धूप छज्जे पे 
अख़बार लिये 
चाय पीती दादी माँ।  
 © रवीन्द्र सिंह यादव




9 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!रविन्द्र जी ,बहुत खूबसूरत पिरामिड !!!

    जवाब देंहटाएं
  2. सर्दी की गुनगुनी धूप से वर्ण पिरामिड।
    सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर वर्ण पिरामिड...
    ये
    धूप
    जागीर
    है सूर्य की
    तरसाती है
    महानगर में
    बेबस इंसान को।
    महानगरों की गगनचुंबी इमारतों में धूप के लिए तरसते लोग...
    बहुत लाजवाब...
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  4. धूप का मख़मली एहसास कराते सुन्दर पिरामिड। बहुत अच्छे लगे ये पिरामिड।

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

ख़िज़ाँ ने फिर अपना रुख़ क्यों मोड़ा है?

मिटकर मेहंदी को रचते सबने देखा है, उजड़कर मोहब्बत को रंग लाते देखा है? चमन में बहारों का बस वक़्त थोड़ा है, ख़िज़ाँ ने फिर ...