मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

प्यार का महल (क्षणिका)



तुम्हारे प्यार का 

रंगीन महल 

मुकम्मल  होने से पहले 

क्यों ढहता है 

बार-बार 

भरभराकर 

शायद तुमने 

चालूपने की 

ख़स्ता-हाल 

ईंटें  चुनी है   

प्यार को 

रुस्वा किया है 

जज़्बात का 

नक़ली सीमेंट लगाकर।  

© रवीन्द्र सिंह यादव

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

पर्यावरण अधिकारी

 प्रकृति की,  स्तब्धकारी ख़ामोशी की,  गहन व्याख्या करते-करते,  पुरखा-पुरखिन भी निढाल हो गये,  सागर, नदियाँ, झरने, प...