शनिवार, 2 जून 2018

कमाई का हक़ जब माँगता है किसान...

बाँझ हो जाती है 
ज़मीं
नक़ल बाज़ार की  
करता है 
जब किसान 
सरकार को 
आता है पसीना
पसीने की 
कमाई का भाव  
जब माँगता है किसान।  



#रवीन्द्र सिंह यादव 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

हाइकु

  1.  जलती बस्ती~  खड़ा है लावारिस  संतरा-ठेला।  2.  दंगे में तख़्ती~  एक सौ पचास है  दूध का भाव।  3.  संध्या की लाली~...