यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 2 जून 2018

कमाई का हक़ जब माँगता है किसान...

बाँझ हो जाती है 
ज़मीं
नक़ल बाज़ार की  
करता है 
जब किसान 
सरकार को 
आता है पसीना
पसीने की 
कमाई का भाव  
जब माँगता है किसान।  


#रवीन्द्र सिंह यादव 

विशिष्ट पोस्ट

प्यार का महल (क्षणिका)

तुम्हारे प्यार का  रंगीन महल  मुकम्मल    होने   से   पहले   क्यों  ढहता  है   बार - बार   भरभराकर   शायद   तु...