गुरुवार, 3 मई 2018

नींद


बचपन में समय पर

आती थी  नींद,

कहानी दादा-दादी की 

लाती थी नींद। 

अब आँखों में

किसी की तस्वीर बस गयी है,

नींद भी क्या करती

कहीं और जाकर बस गयी है।

#रवीन्द्र सिंह यादव



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

विभाजित पिपासा

तिल-तिल मिटना जीवन का, विराम स्मृति-खंडहर में मन का।  व्यथित किया ताप ने  ह्रदय को सीमा तक, वेदना उभरी कराहकर रीती गगरी सब्र की ...