गुरुवार, 3 मई 2018

नींद


बचपन में समय पर

आती थी  नींद,

कहानी दादा-दादी की 

लाती थी नींद। 

अब आँखों में

किसी की तस्वीर बस गयी है,

नींद भी क्या करती

कहीं और जाकर बस गयी है।

#रवीन्द्र सिंह यादव



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

21 दिवसीय लॉक डाउन के बाद कराहती मानवता

चल पड़े हो तो कट ही जाएगा धीरे-धीरे दुरूह सफ़र, विचलित है हृदय देखकर 21 दिवसीय लॉक डाउन के बाद घर की ओर जाते पैदल ग़रीबों की ख़ब...