शनिवार, 24 फ़रवरी 2018

चौकीदार


अपने चमन को हमने संवारा 

बहाया पसीना सहेजे जज़्बात, 

रौनकों को नौंचने आ गयी  

कौए और बाज़ की बारात।


पत्तियां हो रही थीं पल्लवित 

फूलों पर आ रहा था निखार, 

आ गये चरने कुचलने बग़िया जानवर 

धर-धर अपनी-अपनी  बेरहम लात। 


रखवाली के लिए बैठाया 

एक अदद चौकीदार भी, 

लुटेरे करते रहे उसकी जय-जयकार

आत्ममुग्ध समझ न सका पते की बात। 


पूँजी का चरित्र 

लाभ में निहित है, 

नैतिकता की चर्चा 

अब करते रहो दिन-रात।   

#रवीन्द्र सिंह यादव 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

विशिष्ट पोस्ट

दो पल विश्राम के लिए

 छतनार वृक्ष की छाया में    दो पल सुस्ताने का मन है, वक़्त गुज़रने की चिंता में  चलते रहने का वज़न है। कभी बहती कभी थमती है बड़ी मनमौजन है पुरवा...