शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

"प्रिज़्म से निकले रंग" भाग 1


आपको यह सूचना देते हुए मन हर्षित है कि ऊपर दिया गया लिंक लेखक के तौर पर मेरे प्रथम काव्य संग्रह "प्रिज़्म से निकले रंग" का है जिसे ऑनलाइनगाथा पब्लिकेशन की ओर से प्रकाशित किया गया है। 
  
अधिक जानकारी के लिये नीचे दिया गया लिंक क्लिक कीजिये -


Prism Se Nikle Rang

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

विभाजित पिपासा

तिल-तिल मिटना जीवन का, विराम स्मृति-खंडहर में मन का।  व्यथित किया ताप ने  ह्रदय को सीमा तक, वेदना उभरी कराहकर रीती गगरी सब्र की ...