शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

"प्रिज़्म से निकले रंग" भाग 1


आपको यह सूचना देते हुए मन हर्षित है कि ऊपर दिया गया लिंक लेखक के तौर पर मेरे प्रथम काव्य संग्रह "प्रिज़्म से निकले रंग" का है जिसे ऑनलाइनगाथा पब्लिकेशन की ओर से प्रकाशित किया गया है। 
  
अधिक जानकारी के लिये नीचे दिया गया लिंक क्लिक कीजिये -


Prism Se Nikle Rang

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

विशिष्ट पोस्ट

फिर जंगली हुआ जाय?

जंगली जीवन से उकताकर  समाज का सृजन किया  समाज में स्वेच्छाचारी स्वभाव के  नियंत्रण का विचार और इच्छाशक्ति  सामाजिक नियमावली लाई  नैतिकता की ...