मंगलवार, 28 नवंबर 2017

https://youtu.be/NyRSw7A4hE8

चलो अब चाँद से मिलने ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

नशेमन

निर्माण नशेमन का  नित करती,  वह नन्हीं चिड़िया  ज़िद करती।  तिनके अब  बहुत दूर-दूर मिलते,  मोहब्बत के  नक़्श-ए-क़दम नहीं मिलते।...