मंगलवार, 28 नवंबर 2017

https://youtu.be/NyRSw7A4hE8

चलो अब चाँद से मिलने ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

एक आवारा बदली

भुरभुरी भूमि पर उगे  किरदार-से कँटीले कैक्टस निर्जन परिवेश पर  उकताकर कुंठित नहीं होते ये भी सजा लेते हैं  अपने तन पर काँटों संग फूल ...