सोमवार, 24 जुलाई 2017

ख़त मिला आपके रुख़्सत होने के बाद.../KHAT MILA AAPKE RUKHSAT HONE KE B...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

पर्यावरण अधिकारी

 प्रकृति की,  स्तब्धकारी ख़ामोशी की,  गहन व्याख्या करते-करते,  पुरखा-पुरखिन भी निढाल हो गये,  सागर, नदियाँ, झरने, प...