यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

धन तेरस

कार्तिक मास कृष्णपक्ष त्रियोदशी 
धन तेरस शुभता लायी, 
समुद्र-मंथन में आयुर्वेद,अमृत-कलश ले 
धनवंतरि के प्राकट्य की तिथि आयी। 
बर्तन,मूर्ति,सिक्के,श्रृंगारिक साजो-सामान 
 हैं बाज़ार के प्रलोभन,
त्यौहार हैं संस्कृति के अंग 
 दृढ़ रखिये चंचल मन।   
यथाशक्ति कीजिये 
धन तेरस का स्वागत, 
त्यागकर अनुचित अंधानुकरण आग्रह 
संयमित हो तय कीजिये 
त्यौहार की लागत।
ख़ुशियाँ सबके घर-आँगन  छायें,
धन तेरस की मंगलकामनाऐं।  

#रवीन्द्र सिंह यादव    

विशिष्ट पोस्ट

शायद देखा नहीं उसने

चराग़-ए-आरज़ू   जलाये रखना,  उम्मीद आँधियों  में   बनाये रखना।  अब  क्या  डरना  हालात की तल्ख़ियों से, आ गया हम...