यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 10 अक्तूबर 2017

ख़ाकी

समाज को सुरक्षा का एहसास, 
क़ानून की अनुपालना के लिए  
मुकम्मल मुस्तैद मॉनीटर, 
मज़लूमों की इंसाफ़ की गुहार ,
हों गिरफ़्त में मुजरिम-गुनाहगार ,
हादसों में हाज़िर सरकार , 
ख़ाकी को दिया ,
सम्मान और प्यार ,
अफ़सोस कि इस रंग पर ,
रिश्वत ,क्रूरता ,बर्बरता,अमानवीयता,ग़ैर-वाजिब हिंसा ,
विवेकाधिकार का दंभ ,भेदभाव का चश्मा, काला पैसा ,
सत्ता के आगे आत्मसमर्पण ,
पूँजी की चौखट पर तर्पण,
ग़रीब फ़रियादी को दुत्कार ,
आसमां से ऊँचा अहंकार , 
मूल्यों-सिद्धांतों को तिलांजलि !
 दे दी शपथ को  भी   श्रद्धांजलि !!
इतने दाग़-धब्बों के साथ,
ख़ाक में मिल गये  हैं, 
ख़ाकी को मिले अलंकरण ..!!!!!!
यक़ीनन हो समर्पित 
जो किये हैं धारण 
ख़ाकी रंग हूबहू
   उन्हें शत-शत नमन।  

#रवीन्द्र सिंह यादव 

विशिष्ट पोस्ट

शातिर पड़ोसी और हम ....

विस्तारवादी सोच का  एक देश  हमारा पड़ोसी है  उसके यहाँ चलती तानाशाही   कहते हैं साम्यवाद, हमारे यहाँ  लोकतांत्र...