यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

धन तेरस

कार्तिक मास कृष्णपक्ष त्रियोदशी 
धन तेरस शुभता लायी, 
समुद्र-मंथन में आयुर्वेद,अमृत-कलश ले 
धनवंतरि के प्राकट्य की तिथि आयी। 
बर्तन,मूर्ति,सिक्के,श्रृंगारिक साजो-सामान 
 हैं बाज़ार के प्रलोभन,
त्यौहार हैं संस्कृति के अंग 
 दृढ़ रखिये चंचल मन।   
यथाशक्ति कीजिये 
धन तेरस का स्वागत, 
त्यागकर अनुचित अंधानुकरण आग्रह 
संयमित हो तय कीजिये 
त्यौहार की लागत।
ख़ुशियाँ सबके घर-आँगन  छायें,
धन तेरस की मंगलकामनाऐं।  

#रवीन्द्र सिंह यादव    

मंगलवार, 10 अक्तूबर 2017

ख़ाकी

समाज को सुरक्षा का एहसास, 
क़ानून की अनुपालना के लिए  
मुकम्मल मुस्तैद मॉनीटर, 
मज़लूमों की इंसाफ़ की गुहार ,
हों गिरफ़्त में मुजरिम-गुनाहगार ,
हादसों में हाज़िर सरकार , 
ख़ाकी को दिया ,
सम्मान और प्यार ,
अफ़सोस कि इस रंग पर ,
रिश्वत ,क्रूरता ,बर्बरता,अमानवीयता,ग़ैर-वाजिब हिंसा ,
विवेकाधिकार का दंभ ,भेदभाव का चश्मा, काला पैसा ,
सत्ता के आगे आत्मसमर्पण ,
पूँजी की चौखट पर तर्पण,
ग़रीब फ़रियादी को दुत्कार ,
आसमां से ऊँचा अहंकार , 
मूल्यों-सिद्धांतों को तिलांजलि !
 दे दी शपथ को  भी   श्रद्धांजलि !!
इतने दाग़-धब्बों के साथ,
ख़ाक में मिल गये  हैं, 
ख़ाकी को मिले अलंकरण ..!!!!!!
यक़ीनन हो समर्पित 
जो किये हैं धारण 
ख़ाकी रंग हूबहू
   उन्हें शत-शत नमन।  

#रवीन्द्र सिंह यादव 

रविवार, 8 अक्तूबर 2017

करवा चौथ


कार्तिक-कृष्णपक्ष  चौथ का चाँद 
देखती हैं सुहागिनें 
आटा  छलनी  से....  
उर्ध्व-क्षैतिज तारों के जाल से दिखता चाँद 
सुनाता है दो दिलों का अंतर्नाद। 


सुख-सौभाग्य की इच्छा का संकल्प 
होता नहीं जिसका विकल्प 
एक ही अक्स समाया रहता 
आँख से ह्रदय तक 
जीवनसाथी को समर्पित 
निर्जला व्रत  चंद्रोदय तक। 


छलनी से छनकर आती चाँदनी में होती है 
सुरमयी   सौम्य सरस  अतीव  ऊर्जा 
शीतल एहसास से हिय हिलोरें लेता 
होता नज़रों के बीच जब छलनी-सा  पर्दा।  


बे-शक चाँद पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह है
उबड़-खाबड़  सतह  पर  कैसा ईश अनुग्रह है ? 
वहां जीवन अनुपलब्ध  है 
न ही ऑक्सीजन उपलब्ध है 
ग्रेविटी  में छह गुना अंतर है 
दूरी 3,84,400 किलोमीटर है 
फिर भी चाँद हमारी संस्कृति की महकती ख़ुशबू है 
जो महकाती है जीवन पल-पल जीवनभर अनवरत......! 


#रवींद्र सिंह यादव 

मंगलवार, 3 अक्तूबर 2017

अभावों के होते हैं ख़ूबसूरत स्वभाव

आज एक चित्र देखा मासूम फटेहाल भाई-बहन किसी आसन्न आशंका से डरे हुए हैं और बहन अपने भाई की गोद में उसके चीथड़े हुए वसन थामे अपना चेहरा छुपाये हुए है -


अभावों के होते हैं ख़ूबसूरत  स्वभाव, 
देखती हैं नज़रें भाई-बहन के लगाव। 

हो सुरक्षा का एहसास  तो भाई का दामन ,
ढूंढ़ोगे ममता याद आएगा माई का दामन। 

जीवन हमारा है बना  दुःखों  की चक्की, 
पिसते रहेंगे सब  चाहे हों लकी-अनलकी। 

ज़माने से हम भी  हक़  हासिल करेंगे, 
आफ़त पे जीत बे-शक  हासिल करेंगे। 

है प्रभु का शुक्राना  आज सलामत हैं हम, 
किस  लमहे  की  आख़िर ज़मानत हैं हम ?
#रवीन्द्र सिंह यादव 

गुरुवार, 28 सितंबर 2017

भगत सिंह का लिए मुखौटा खड़े हुए हैं ढोंगी आज

शहीद--आज़म सरदार भगत सिंह की जयंती पर विशेष

  28 सितम्बर 1907 को जन्मा
भारत  का करिश्माई लाड़ला  लाल,
क़ुर्बान  हुआ हम सब की ख़ातिर
कर गया राष्ट्र  का उन्नत  भाल। 

23 वर्ष  उम्र--नौजवानी में  हुई शहादत,
दीवानगी की हद तक आज़ादी की इबादत।

ख़ुशी-ख़ुशी झूल गए फांसी के फंदे पर
भगत सिंह ,राजगुरु ,सुखदेव,
क़ुबूल  किया था अपना कृत्य
चुना शहादत को स्वयमेव। 

इंक़लाब ज़िंदाबाद, हिन्दुस्तान ज़िंदाबाद
भगत सिंह के नारे थे ,
लाला लाजपत राय की जान के बदले
सॉण्डर्स को गोली  मारे थे। 

सीएलए दिल्ली में बम  फेंककर,
धूर्त गोरों को ख़ूब डराया था ,
ले ज़िम्मेदारी  अपने  कन्धों पर
क्रांति का अलख जगाया था। 

लिखने का जूनून सवार था
मरते दम तक लिखना ज़ारी था ,
सत्ता ,पूँजी के केन्द्रीयकरण का
विरोध चिंतन में भारी था। 

मानवता के लिए लड़े भगत सिंह,
आज़ादी के लिए अड़े भगत सिंह,
सांप्रदायिकता से भिड़े भगत सिंह ,
थे समाजवाद का परचम ले खड़े भगत सिंह।   

कायरता,चतुराई,चालाक चुप्पी,साज़िश, मक्कारी का
अब  खेल हुआ प्रिय सबको,
बेख़ौफ़ था अंजाम--शहादत से स्वाधीन चेतना का
अमर  हीरो हुआ प्रिय सबको। 

"व्यक्ति को मारना आसान है विचार को नहीं"... , 
कहना था दुलारे भगत सिंह का ,
"मैं नास्तिक क्यों हूँ " लेख लोकप्रिय हुआ जग में
देश के उजियारे भगत सिंह का। 

भगत सिंह का लिए मुखौटा खड़े हुए हैं ढोंगी आज,  

सरकारी कागज़ में लिख पाए शहीद उन्हें ,

होड़ाहोड़ी ख़ूब मची है शहीदों को हथियाने की,

लौट आओ भगत सिंह दे जाओ दीद उन्हें। 

सरकारी सम्मान पाने के 
भगत सिंह मोहताज  नहीं, 
अपने शहीद-ए-आज़म  को 
भूला कोई आज नहीं। 
जय हिन्द ! 

#रवीन्द्र सिंह यादव

मंगलवार, 26 सितंबर 2017

अपनी अस्मिता क़ुर्बान करनी चाहिए थी ?

कुलपति साहब तो क्या 
उस छात्रा को 
संस्थान की अस्मिता के लिए 
अपनी अस्मिता 
क़ुर्बान करनी चाहिए थी ?
बीएचयू  के मुखिया को 
ऐसी बयानबाज़ी करनी चाहिए थी ?


जो बेटियों द्वारा संस्थान की अस्मिता के लिए 
आहूत शुद्धि-यज्ञ को 
सियासी साज़िश बताते हैं
ऐसी विभाजनकारी मानसिकता के 
लोग भी सरकारी कृपा से कुलपति बन जाते हैं।   

सभ्यता की सीढ़ियाँ 
चढ़ता मनुष्य 
पशुओं से अधिक 
पाशविक-व्यवहार पर 
उतर आया है 
घटना का ज़िक्र देख-सुन 
आँखों में लहू उतर आया है। 

साइकिल पर शाम साढ़े छह बजे 
बीएचयू कैंम्पस में हॉस्टल जाती 
17 वर्षीय एक  छात्रा के 
वस्त्रों में 
बाइक पर सवार होकर 
हाथ डालने के संस्कार 
किसी  माँ-बाप ने 
अपने अशिष्ट,मनोरोगी बेटे को दिये  हैं ?


मीडिया प्रबंधन की 
पोल खुल गयी है 
विज्ञापनों के फेर में 
मीडिया-मालिक की ज़ेहनियत  पर 
फ़रेबी-संवेदना की कलई अब  धुल गयी है। 


अफ़सोस कि वाराणसी एक तीर्थ है 
जहाँ  भी मानवता को 
शर्मसार करने वाले भेड़िये पलते हैं 
सर्वविद्या की सांस्कृतिक राजधानी में
वर्जनाओं की फ़ौलादी ज़मीं पर 
सामंतवादी पुरुषसत्ता की टकसाल में 
सांस्कृतिक बेड़ियों के सिक्के ढलते हैं।   


धरने पर बैठी बेटियाँ 
अपनी सुरक्षा के लिए 
सड़क पर रात गुज़ारती हैं
अगली अँधेरी रात में वे निहत्थी हैं फिर भी 
पुरुष-पुलिस की सर पर लाठियां खाती हैं। 

कमाल का मलाल है बनारसी लोगों के मन में   
उन्हें अफ़सोस है कि प्रधानमंत्री के काफ़िले का रुट बदलने से 
उनके द्वार की मिटटी पवित्र न होने पाई ... .!  

सुनो ! 
खोखली मान्यताओं के पहरेदारो 
बेटी  है अब सड़क पर  उतर  आई 
नए मूल्यों की इबारत लिखने से रोक पाओगे ?
सुनो!
पशुओं को भी लज्जित  कर देने वाले दरिंदो 
तुम भी किसी के जीवनसाथी क्या अब बन पाओगे ? 
तुम किसी माई के लाल हो 
किसी बाप की नाक का बाल हो 
तुम भी किसी बहन के  हो  भाई 
या किसी बेटी के  बनोगे  बाप..!  
तुम्हारा ज़मीर जाग जाय तो अच्छा है 
वरना  जीवनभर अंधकार में भटकोगे कचोटेगा  संताप..!  


ख़ुफ़िया-तंत्र को चुल्लूभर पानी काफ़ी है 
हमारी ओर से उसे नहीं कोई माफ़ी है। 
ख़बर है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की 
नींद आज खुल गयी  है 
राष्ट्रीय महिला आयोग की 
न जाने क्यों घिग्घी बंध गयी है ?
#रवीन्द्र सिंह यादव 

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में हुई छेड़छाड़ की अभद्र घटना पर मेरा लेख -

                       राष्ट्रवाद की चालाक व्याख्या में पिसती छात्राओं की आज़ादी

                                   https://hamaraakash.blogspot.in/2017/09/blog-post.html


शब्दार्थ / पर्यायवाची।   WORD MEANINGS 
कुलपति= विश्वविद्यालय का शीर्ष अधिकारी /VICE  CHANCELLOR  
संस्थान - INSTITUTE 
अस्मिता = गौरव ,गरिमा , अभिमान ,पहचान / PRIDE 
क़ुर्बान= मिटा देना(स्वयं को ) , बलिदान करना , त्याग करना /                             SACRIFICE 
बीएचयू = बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी 
पाशविक व्यवहार= पशुओं जैसा बर्ताव , नृशंस व्यवहार /BEHAVE                                         LIKE ANIMAL, BRUTAL ACTIVITIES 
साइकिल = मानवीय ऊर्जा से चालित दो पहिया वाहन / BICYCLE 
              (BI = दो , CYCLE = चक्र / पहिया अर्थात जिसमें दो पहिये हों )
बाइक = मोटर साइकिल, स्वचालित दो पहिया वाहन / MOTOR                           CYCLE  / BIKE 

अशिष्ट = असभ्य , शिष्टाचार से परे ,बदतमीज़ ,गुस्ताख़ /                                       UNCIVILIZED
फ़रेबी-संवेदना= छुपे ग़लत मक़सद की संवेदना / FALSE                                                 SENSITIVITY 
ज़ेहनियत = मानसिकता / MENTALITY 

मंगलवार, 19 सितंबर 2017

आँखें


ख़ामोश अदा चेहरे की ,

व्यंगपूर्ण मुस्कान 
या 
ख़ुद को समझाता तसल्ली-भाव....?

आज आपकी डबडबाई आखों में 

आयरिस  के आसपास ,

तैरते हुए चमकीले मोती देखकर.....

मेरे भीतर भी कुछ टूटकर बिखर-सा गया है ...... !  



ज़ार-ज़ार रोती आँखें 

मुझे भाती नहीं ,

आँखें हैं कि शिकायती-स्लेट 

बनने से अघाती नहीं। 



आपका कभी आँचल भीगता है 

कभी  मेरा  रुमाल ,

बह जायें आँसू फिर देखिये 

चंचल नयनों के कमाल। 




दिल किसी का यादें किसी की 

सपने किसी के आँख किसी की

इंतज़ार किसी का धड़कन किसी की  

चैन किसी का बेक़रारी किसी की

अक्स किसी का आँख किसी की 

दिल में समायी प्रीत  किसी की 

कहो कैसा कुदरती अनुबंध है ?



किसी दामन में सर झुकाकर 

सुकूं मिलता है भरी आँखों को ,

क़लम कहाँ लिख पाती 

 पाकीज़गी-ए-अश्क़  के  उन ख़्यालों को।   



आप मेरे दिल में उतरे 

मैं  आपके  दिल  में ,

गुफ़्तुगू  ख़ूब  हुई 

दो दिलों की महफ़िल में। 

तड़प के सिवाय कुछ मिला क्या .... ?

खनकते एहसास लिए 

तमन्नाओं का हसीं कारवाँ मिला ,

तभी तो चल पड़ा 

इश्क़ का नाज़ुक-सा सिलसिला। 


मैं अपनी गुस्ताख़ी  

ढूँढ़कर  ही  रहूँगा 

ख़ज़ाना-ए-दिल बहने का 

सबब तलाश कर ही लूँगा। 



क्योंकि आपने आज मुझे टफ  टास्क दिया है -

"दिल में ऐसा क्या चुभता है 

कि ज़ुबाँ चुप रहती है ,

आँखें बयाँ करती हैं ?"



कब से हम खुलकर  मुस्काये नहीं 

गए वक़्त की रुस्वाइयाँ  बयां करती हैं ,

चेहरे  पर उदासी का पहरा 

और झुकी-झुकी पलकें 

बे-रूखी का क़िस्सा बयां करती हैं। 



है  हार  क़ुबूल  मुझे

नहीं मैं अना-पसंद 

रणछोड़दास जी का 

पथ अनुगमन करता हूँ ,

चेहरे  पर खिली तबियत हो  

ईष्ट  को  नमन  करता  हूँ।  

बस यही दुआ और इल्तिजा करता हूँ -

ज़िन्दगी को जीभर खिलने-मुस्कराने दो अब ,

सपनों में भी आँसुओं को  न ज़ाया  होने दो अब। 

#रवीन्द्र सिंह यादव 

शब्दों के अर्थ /पर्यावाची / WORD  MEANING 

आयरिस =आँख की पुतली / IRIS / PUPIL 

पाकीज़गी-ए-अश्क़= आँसुओं  की पवित्रता / PURITY OF TEARS 

ख़ज़ाना-ए-दिल= आँसू / TEARS 

गुस्ताख़ी  =ढिठाई , बे-अदबी ,अशिष्टता /ARROGANCE 

टफ  टास्क= कठिन, चुनौतीभरा  कार्य / TOUGH TASK 

रुस्वाइयाँ= बदनामियाँ / DISGRACES 

अना-पसंद = अहंकारवादी ,अहंवादी, अपने अहंकार को आगे रखने वाला  / Egotist 

रणछोड़दास =श्रीकृष्ण / LORD KRISHNA 

ज़ाया = बरबाद ,नष्ट, नाश  / WASTE / DESTROY  


विशिष्ट पोस्ट

धन तेरस

कार्तिक मास कृष्णपक्ष त्रियोदशी  धन तेरस शुभता लायी,  समुद्र-मंथन में आयुर्वेद,अमृत-कलश ले  धनवंतरि के प्राकट्य की तिथि आयी।  बर्त...