यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, 23 दिसंबर 2016

आजकल



राहत     की    बात  

 हवा       हुई,

     मुश्किल    एक    से        

सवा      हुई।



कमाई   नौ   दो  ग्यारह      

हो    चली,

हथेली    तप-तप    कर     

तवा        हुई। 

मुश्किल     एक      से        

सवा      हुई।



भूख        से        

अब            हुए,

गेंहूँ      की      मिगी     

मैदा  -  रवा      हुई । 

    मुश्किल    एक    से        

सवा      हुई।





चार      बाटी    दबाईं   

अलसाई  आँच   में,

अंगीठी    भड़ककर        

अवा         हुई। 

   मुश्किल    एक     से        

सवा      हुई।



आये  हैं अमीर-फ़क़ीर     

हालात     बदलने,

ख़ुशी    केवल    इनकी     

हमनवा      हुई। 

   मुश्किल     एक     से        

सवा      हुई।



लाख   टके   की  बात  

दो  टके  की  न  करो,

ज़हर    की     गोली     

कब     दवा      हुई?  

   मुश्किल   एक     से        

सवा      हुई।


 @ रवीन्द्र  सिंह  यादव

विशिष्ट पोस्ट

शातिर पड़ोसी और हम ....

विस्तारवादी सोच का  एक देश  हमारा पड़ोसी है  उसके यहाँ चलती तानाशाही   कहते हैं साम्यवाद, हमारे यहाँ  लोकतांत्र...